खेल जगत

अइसन गेम्स: दिव्यांश-रमिता रोमांचक मुकाबले के बाद 10 मीटर मिश्रित एयर राइफल में कांस्य पदक से चूके

भारत के दिव्यांश पंवार और रमिता जिंदल मंगलवार को हांग्जो में एशियाई खेलों में लगातार दो दिनों तक घूमने के बाद 10 मीटर मिश्रित एयर राइफल में कांस्य पदक जीतने से चूक गए, क्योंकि देश के निशानेबाजों को एक बड़ा झटका लगा।

हांग्जो में 19वें एशियाई खेलों में 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित टीम में मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूकने के बाद भारतीय निशानेबाज दिव्यांश सिंह पंवार और रमिता की प्रतिक्रिया (पीटीआई)

एक दिलचस्प मुकाबले के बाद दक्षिण कोरिया ने कांस्य पदक जीता, जिसमें दोनों टीमों ने तीसरे स्थान के लिए संघर्ष करते हुए अपना सब कुछ झोंक देने वाले प्रयास किए।

पार्क हाजुन और ली यूनसेओ की कोरियाई जोड़ी ने आखिरकार 20-18 से जीत हासिल की।

20 वर्षीय दिव्यांश और किशोरी रमिता की जोड़ी के लिए शानदार प्रदर्शन की भविष्यवाणी की गई थी, लेकिन शुरुआत उम्मीद के मुताबिक नहीं रही क्योंकि यह जोड़ी क्वालिफिकेशन राउंड के बाद छठे और अंतिम स्थान पर रहते हुए फाइनल के लिए क्वालीफाई कर गई।

व्यक्तिगत 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा के विपरीत, जहां आठ निशानेबाज फाइनल के लिए क्वालीफाई करते हैं, मिश्रित टीम में छह जोड़े पदक दौर में पहुंचते हैं।

यहां भी, शीर्ष दो स्थान वाली टीमें स्वर्ण के लिए प्रतिस्पर्धा करती हैं, जबकि शेष चार जोड़ियां दो समूहों में विभाजित होती हैं और दो कांस्य पदक के लिए प्रतिस्पर्धा करती हैं।

कोरिया ने एक कांस्य जीता, जबकि दूसरा कांस्य सतपायेव इस्लाम और एलेक्जेंड्रा ले की कजाख जोड़ी ने जीता, जिन्होंने अमीरमोहम्मद नेकौनम और शेरमिनेह अमीरानी की ईरानी जोड़ी को 17-11 से हराया।

सोमवार को 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे पंवार ने 314.3 का स्कोर किया, जबकि 19 वर्षीय रमिता ने 313.9 का स्कोर किया और कुल 628.2 का स्कोर किया।

यह भारत और कोरिया के बीच एक तनावपूर्ण कांस्य-पदक मैच था, जिसमें भारतीय एक समय 9-3 से आगे थे और 16 के विजयी स्कोर तक पहुंचने की दौड़ में थे।

लेकिन कोरिया ने आगामी श्रृंखला में उल्लेखनीय सुधार करते हुए अंततः भारतीयों को 20-18 से हरा दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button