मध्य प्रदेश

पीएचई की नल जल योजना विकासखंड चाचौड़ा में असफल – ठेकेदारों, सब इंजीनियर ने शासकीय राशि किया हजम

गुना जिले के अंतर्गत आने अनुभाग मुहम्मदपुर और पेंची की नल जल योजना सहायक यंत्री,सब इंजीनियर और ठेकेदारों की मिलीभगत से भ्रष्टचार की भेट चढ़ गई। ग्राम पेंची में नल जल योजना में डाली गई पाइप लाइन घर के सामने से न डालकर 20 फुट दूर से बजट बड़ाने के लिए घर तक डाली गई है। रास्ते के ऊपर ही मैन लाइन डालकर पूरे मार्ग को खोद डाला गया है। वही मार्ग को जर्जर कर पीएचई के ठेकेदार उसका रेनोवेशन करना भूल गए।पूरे ग्राम पेंची के मार्ग क्षतिग्रस्त कर दिए गए। इस ग्राम में हुए कार्य को लेकर ऐसा प्रतीत होता है कि सहायक यंत्री और सब इंजीनियर द्वारा उक्त ग्राम में कोई निरीक्षण नही किया। ग्रामीणों में भरी आक्रोश है जिसे देखकर ऐसा लग रहा है आगमी समय इस तरह के कार्य भाजपा की दुर्गति करने का काम करेंगे। उक्त ग्राम की नल जल योजना जगह जगह से लीकेज हो रही है। घर तक जाने वाली लाइन को भी कुशल तकनीकी से न बिछा कर मनमाने तरीके से डाला गया है।पाइप लाइन भी तयशीदा मापदंड के अनुसार नही डाली जा रही।इस तरह ठेकेदार ,सब इंजीनियर और सहायक यंत्री की मिलीभगत से उक्त ग्राम में पीएचई की नल जल योजना की लाखों की राशि सभी ने हजम कर ली। बॉक्स मुहम्मदपुर में भी किया घटिया कार्य: जल जीवन मिशन में तकनीकी द्वारा किया गया छोटा सा कार्य भी पीएचई के भ्रष्ट रवैया की भेट चढ़ गई।घटिया पैंपशेड और घटिया पाइप लाइन डालकर उक्त ग्राम की पूरी पेयजल व्यवस्था को घुन लगा दी है।अब लगातार ग्रामीण अंचलों से नल जल योजना को लेकर ग्रामीण आक्रोश बड़े अधिकारियों की दहलीज तक आने को है। सब इंजीनियर और ठेकेदारों की मिलीभगत से नल जल योजना जो गर्मी के मौसम में जीवन दायनी साबित होती वह विभागीय अधिकारियों की लापरवाही और कमीशनखोरी के चलते ग्राम में अनुपयोगी साबित हो रही है।इसमें सुधार के लिए बड़े अधिकारियों को ठेकेदारों के भुगतान पर रोक लगाकर इसको उपयोगी बनाया जाए। कई ग्रामों में तो ठेकेदार और अधिकारियों ने ग्राम पंचायत समिति को प्रभाव में लेकर घटिया नल जल योजना उनके सुपुर्द कर दी है आगे ऐसा न हो इसके लिए नल जल योजना के कार्यों की लगातार मॉनिटरिंग की जाना आवश्यक है। एमपीईबी की लाइन न होने पर भी पीएचई ने की लाखों रुपए की हानि: दो साल पूर्व ग्राम पंचायत को हो गई थी योजना हैंड ओवर मोहम्मदपुर की तकनीकी योजना को लेकर जब सबंधित सब इंजीनियर मैडम से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि उक्त योजना को दो साल पहले ही पूर्ण कर लिया गया था। विधुत मंडल का इस ग्राम में कनेक्सन न होने के बाद भी निचले अमले ने आखिर क्यों इस ग्राम का प्रस्ताव नल जल योजना के लिए भेजा। उन्होंने बताया कि 3 माह तक रख रखाब का बांड था। अब जब विधुत मंडल ने हमे 2 साल बाद भी कनेक्सन नही दिया तो इसमें हमारी क्या गलती। मैडम ने कहा केवल नलों में पानी ही नहीं आ रहा है और तो पूरा कार्य हो चुका है।मेरे पास कितने ग्राम है और किस ठेकेदार ने काम किया इसकी जानकारी आप एसडीओ से ले सकते है। ग्रामीणों द्वारा ही उक्त लाइन को तोड़ दिया होगा। अन्य जो विसंगति आपने मेरे संज्ञान में दी है उन्हे में सुधारने का प्रयास करूंगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button